संपादक की पसंद

लोकप्रिय पोस्ट

नवीनतम पोस्ट

post-thumb

ग्लूकोमा के लक्षण और इलाज़ (glaucoma ke lakshan aur ilaj)

एक दिन में सोकर उठा और मेरी बायीं आँख में मुझे धुंधलापन महसूस हुआ| में नींद में ही था, तो मुझे लगा की थोड़ी देर में खुद ही ठीक हो जायेगा| पर मेरी रूह काँप उठी जब मैंने पाया की ये धुंधलापन स्थायी है - मैंने आँख धोईं, थोड़ी देर के लिए फिर से सो गया, सब कुछ किया पर ये धुंधलापन नहीं गया| मुझे विश्वास नहीं हो रहा था की ये मेरे साथ क्या हो रहा है| ये पूर्ण अंधापन नहीं था, अपितु बायीं आँख के करीब एक-चौथाई हिस्से पर पर्दा सा डल गया था| तब मेरी उम्र 35 की थी|

और पढ़ें
post-thumb

सायटिका का इलाज कैसे करें? (Sciatica ka ilaj kaise karein?)

क्या आपको अचानक से बैठने और चलने में दिक्कत होने लगी है? ऐसा लगता है जैसे कमर के निचले हिस्से या कूल्हों और जांघो में बैठने और चलने से दर्द उत्पन्न होता है, ऐसा लगता है जैसे कोई पिन चुभा रहा है?

और पढ़ें
post-thumb

हरीतकी चूर्ण के फायदे (haritaki churna ke fayde)

हरीतकी एक पेड़ है जोकि भारत और दक्षिण एशिया में पाया जाता है| इसके सूखे हुए फल को ही हम लोग हरीतकी के नाम से आयुर्वेद में प्रयोग करते हैं| हरीतकी (Chebulic myrobalan) को हरड़ (harad) के नाम से भी जाना जाता है|

और पढ़ें
post-thumb

बेल पथ्थर के फायदे और नुक़सान (bel patthar ke fayade aur nuksan)

ऐगल मार्मेलोस एल (Aegle marmelos L.), जिसे आमतौर पर बेल (या बेल पत्थर), गोल्डन एप्पल, स्टोन एप्पल या वुड एप्पल के नाम से भी जाना जाता है, एक पेड़ है जो भारतीय उपमहाद्वीप का मूल निवासी हैं। दुनिया के कुछ हिस्सों में, इस फल को एलीफेंट एप्पल कहा जाता है क्योंकि यह हाथियों द्वारा बहुत पसंद किया जाता है।

और पढ़ें
post-thumb

13 जड़ी-बूटियां जो घर के बगीचे में उगाई जा सकती हैं (jadi-bootiyan jo ghar mein uga sakte hein)

औषधीय जड़ी-बूटियाँ और फूल उन सामान्य बीमारियों या स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज का शानदार तरीका है जो आमतौर से घर पर होती रहती हैं। यह हमारी चिकित्सा प्रणाली पर पढ़ रहे बोझ को कम करने में भी मदद करता है। मुझे अपने बगीचे में कौन सी जड़ी-बूटियां उगानी चाहियें ?

और पढ़ें
post-thumb

गुदा विदर (एनल फिशर) के प्राकृतिक उपचार (anal fishar ke prakartik upchar)

इस लेख में हम गुदा विदर (एनल फिशर) के कुछ प्राकृतिक उपचारों के बारे में जानेंगे। भारत में चार से पांच करोड़ लोग पाइल्स और फिशर से पीड़ित हैं। अक्सर लोग चिकित्सकीय ज्ञान की कमी के कारण भ्रमित हो जाते हैं। वे डॉक्टर को देखने में भी शर्मिन्दिगी मेहसूस करते हैं। इसी कारन कभी-कभी यह समस्या समय के साथ बड़ी हो जाती है।

और पढ़ें