showing from diseases

post-thumb

डेंगू बुखार के लक्षण और घरेलु उपाय (Dengue bukhar ke lakshan aur gharelu upay)

डेंगू भुखार एक वायरल बुखार है, जो संक्रमित एडीज (Aedes) मच्छरों के काटने से होता है| अगर किसी डेंगू ग्रसित व्यक्ति को काटने के बाद यह मच्छर किसी स्वस्थ व्यक्ति को काट ले, तो यह डेंगू वायरस को उस स्वस्थ व्यक्ति तक भी पंहुचा देगा| अर्थार्थ, यह मच्छर वायरस के वाहक के रूप में काम करता है|

और पढ़ें
post-thumb

बुखार क्यूँ होता है, और बुखार के प्रकार (Fever kyun hota hai, aur yeh kitne prakar ka hota hai?)

हम लोगों में शायद ही कोई ऐसा हो जिसे कभी बुखार न हुआ हो| सर्दी, जुखाम और ज्वर अक्सर सबको होते ही रहते हैं| परन्तु बुखार कई प्रकार के होते हैं, और इसको पहचानना बहुत जरूरी होता है की हमको बुखार किस कारणवश हुआ है| इसके मूल्यांकन में गलती ज़िन्दगी और मौत का अंतर पैदा कर सकती है|

और पढ़ें
post-thumb

पेशाब में जलन के कारण और उपाय (Peshab mein jalan ka karan aur upay)

पेशाब सम्बंधित समस्याएं किसी भी उम्र के लोगों में प्रकट हो सकती हैं - जैसे की बार-बार पेशाब लगना, पेशाब में जलन होना, पेशाब करते हुए कटने जैसा एहसास होना, इत्यादि| यह किसी छोटे-मोटे कारणवश भी हो सकता है, या किसी संक्रमण (Infection) की वजह से, या यह किसी विकट समस्या का सूचक हो सकता है|

और पढ़ें
post-thumb

मस्से हटाने के घरेलु उपाय (Masse hatane ke gharelu upay)

हममे से कई लोगों को मस्से (स्किन टैग्स - Skin Tags) हो जाते हैं, किसी को गर्दन पे, किसी को चेहरे पर, हाथ पर, सर पर, किसी को शरीर के बाकी हिस्से पर| असल में, त्वचा पर खुरदुरे सी, त्वचा के रंग की गाँठें बन जाती हैं। इन्हें ही मस्से कहा जाता है| यह बहुत आम त्वचा सम्बंधित समस्या है|

और पढ़ें
post-thumb

दिमाग की नसों के दर्द का घरेलु इलाज (dimaag ki nason ke dard ka gharelu ilaj)

सर में दर्द एक आम शिकायत है| इसका कारण बहुत आम भी हो सकता है, और यह किसी भयंकर बीमारी का लक्षण भी हो सकता है| अगर यह बोहत लम्बे समय तक, और बार-बार होता है, तो आपको किसी विशेषज्ञ को अवश्य दिखाना चाहिए|

और पढ़ें
post-thumb

नसों की कमजोरी के घरेलू उपाय (nason ki kamzori ke gharelu upay)

नसें हमारे पूरे शरीर में फैली हुई होती हैं, पैर से लेकर मेरुदंड और सर तक| नसों को अंग्रेजी में nerves और आयुर्वेद में वात नाड़ी कहा जाता है| नसों के स्नायु तंत्र के कारण ही हमारे शरीर के बाकी हिस्से दिमाग तक सन्देश पंहुचा पाते हैं|

और पढ़ें