post-thumb

बुखार क्यूँ होता है, और बुखार के प्रकार (Fever kyun hota hai, aur yeh kitne prakar ka hota hai?)

हम लोगों में शायद ही कोई ऐसा हो जिसे कभी बुखार न हुआ हो| सर्दी, जुखाम और ज्वर अक्सर सबको होते ही रहते हैं| परन्तु बुखार कई प्रकार के होते हैं, और इसको पहचानना बहुत जरूरी होता है की हमको बुखार किस कारणवश हुआ है| इसके मूल्यांकन में गलती ज़िन्दगी और मौत का अंतर पैदा कर सकती है|

इस लेख में हम यही जानने की कोशिश करेंगे की विभिन्न प्रकार के बुखार क्या हैं, और वो कैसे होते हैं|

सावधानी

बुखार होने पर आपको किसी डॉक्टर को अवश्य दिखाना चाहिए| अक्सर डॉक्टर या वैद्य खुद ही बता देते हैं की आपको किस प्रकार का बुखार है, या फिर वो आपको किसी परीक्षण और जाँच करवाने के लिए कह सकते हैं| यह जानना बहुत जरूरी है की आपको बुखार क्यों हुआ है, अन्यथा उसका इलाज करना अत्यंत कठिन साबित हो सकता है| इस लेख का उद्देश्य सिर्फ आपको इस सम्बन्ध में सामान्य जानकारी देना है|

Table of Contents (in Hindi)
  • बुखार क्या होता है ?
  • बुखार के संभावित कारण
  • बुखार कितने प्रकार के होते हैं ?

बुखार क्या होता है ?

मनुष्य के शरीर का सामान्य तापमान 36°C से 37.5°C (या 98.6°F) होता है| अगर तापमान इससे अधिक हो जाये तो इसको ही ज्वर या बुखार कहते हैं| या दूसरे शब्दों में कहें तो हमारे शरीर में जितनी ऊर्जा बनती है, उतनी ही निकल भी जाती है| परन्तु बुखार में यह संतुलन बिगड़ जाता है| या तो शरीर का तापमान बहुत गिर जाता है, या बहुत बढ़ जाता है|

नोट

अगर शरीर का तापमान सामान्य से कम हो जाता है, तो उसको भी बुखार या फीवर ही कहा जाता है|

यह देखा गया है की प्रति 1°C तापमान बढ़ने पर (शरीर का) दिल की धड़कन, या नाड़ी की चाल 10 बढ़ जाती है, और साँस लेने की गति में लगभग 4 का इजाफ़ा हो जाता है|

ज्वर खुद कोई बीमारी नहीं होती, बल्कि यह किसी बीमारी का सूचक होता है| ज्वर हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण होता है, जो किसी संक्रमण, कीटाणु, या जीवाणु को मारने के लिए शरीर का तापमान बढ़ा देती है|

बुखार के संभावित कारण

बुखार कई कारणों से हो सकता है| उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • विषाणु (वायरस) की वजह से - वायरल बुखार 7 से 14 दिनों में खुद ही ठीक हो जाता है| इसमें गला ख़राब, सर्दी, खांसी, आदि लक्षण भी देखे जाते हैं| वायरस का कोई इलाज नहीं| इसमें हम सिर्फ देखभाल कर सकते हैं| वायरल बुखार में आपको पानी, जूस, इत्यादि अच्छी-खासी मात्रा में पीना चाहिए, और आराम भी करना चाहिए| अगर 3-4 दिन में कोई असमान्य लक्षण दिखें, या तापमान 101°C से ऊपर जाये, तो किसी वैद्य या डॉक्टर को अवश्य दिखाएं| वायरल बुखार अक्सर लोगों को होता रहता है - कोरोना का बुखार भी वायरल बुखार ही है| डेंगू (Dengue) भी वायरल बुखार है|
  • बैक्टीरिया की वजह से - जैसे की टाइफाइड बुखार (Typhoid)
  • फफूंद (फंगस) की वजह से - जैसे की रिफ्ट वैली ज्वर (RVF)
  • परजीवी (parasite) की वजह से - जैसे मलेरिया बुखार (malaria)
  • किसी संक्रमण की वजह से - जैसे की यूरीनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI), और ब्रोंकाइटिस (Bronchitis) इंफेक्शन की वजह से
  • ऑटो-इम्यून बिमारियों की वजह से (जैसे सिस्टेमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, Lupus), या अगर आपकी रोग-प्रतिरोधक छमता कमजोर है (संभवतः मिनरल्स, और विटामिन्स की कमी के कारण)
  • कैंसर (Cancer), टीबी (tuberculosis) होने पर भी बुखार अक्सर हो जाता है

बुखार कितने प्रकार के होते हैं ?

ज्वर को कई प्रकार से वर्गीकृत किया जाता है, जैसे की उसके चरणों के आधार पर, ज्वर की तीव्रता के आधार पर, इत्यादि| हम मोटे तौर पर बुखार को वर्गीकृत करेंगे, जो हमे समझने में आसान हो|

स्थिर या निरंतर बुखार

स्थिर या निरंतर बुखार में तापमान स्थिर बना रहता है, सुबह से शाम तक, यहाँ तक की कई दिनों तक| तापमान सामान्य से 2°C तक बढ़ जाता है और उसमें फिर अधिक अंतर नहीं आता है|

अस्थिर बुखार (Irregular Fever)

अस्थिर बुखार में तापमान सामान्य से बढ़ जाता है, और फिर कुछ समय बाद फिर सामान्य हो जाता है| यह प्रक्रिया 3-4 दिन चलती है, और शाम के समय तापमान थोड़ा अधिक रहता है| उदाहरण के लिए मलेरिया का बुखार| (विपरीत बुखार में सुबह तापमान ज्यादा और शाम को कम होता है|)

अल्पविरामी बुखार

बुखार सामान्य से 1°C तक बढ़ता है, और फिर 1-2 दिन ऐसे ही रहता है|

शीत कपकपी बुखार (Rigor Fever)

इस बुखार में शरीर का तापमान अचानक से कपकपी के साथ चढ़ता है| अर्थार्थ, पहले बहुत ज़ोर से ठण्ड लगती है, और फिर बदन जलने लगता है| उदाहरण के लिए निमोनिया (Pneumonia)|

Share on:
comments powered by Disqus