post-thumb

कद बढ़ाने के आसान तरीके (Lambai badhane ke prakartic tarike)

आदिकाल से ही मनुष्य लम्बे होना चाहते हैं, शायद इसलिए की पुरातन काल में लम्बे और अच्छी कद-काठी के लोग अच्छे योद्धा साबित होते थे, या शिकार और रक्षा हेतु ज्यादा बेहतर थे|

वैसे आज-कल के ज़माने में लम्बाई, त्वचा का रंग आदि कोई ज्यादा मायने नहीं रखता, परन्तु आज भी ऐसे कई लोग हैं जिन्हें संभवतः अच्छी लम्बाई वाला मनुष्य ज्यादा आकर्षक व्यक्तित्व का लगता है, या उन्हें लगता है की एक लम्बे व्यक्ति के अंदर आत्मविश्वास अधिक रहता है| कारण कोई भी हो, पर आज भी लोग अपनी और अपने बच्चों की लम्बाई बढ़ाने के लिए काफी तत्पर रहते हैं|

कहीं-कहीं यह आवश्यक भी होता है, जैसे की सेना या पुलिस में भर्ती के लिए आपकी लम्बाई और चौड़ाई जाँची जाती है - मुझे पता है क्यूंकि मेने एयरफोर्स में अफसर के पद पर प्रवेश किया था|

अतः, हम इस लेख में लम्बाई बढ़ाने के कुछ घरेलु और प्राकर्तिक उपायों पर चर्चा करेंगे| पर शुरू करने से पहले, हम आपके कुछ भ्रमों दूर कर देना चाहेंगे :

  • लम्बाई अचानक से नहीं बढ़ती है - कुछ लोग तो कुछ दिनों या घंटों में लम्बाई बढ़ाने का दावा करते दीखते हैं; इतना पाखंड| जो भी तरीके हम बताएंगे उसमे आपको लगातार और नियमित मेहनत करनी होगी, और काफी धैर्य रखना होगा|
  • एक समय के पश्चात लम्बाई मुश्किल से ही बढ़ती है - लम्बाई बढ़ाने के लिए 12 से 16 साल की उम्र सबसे महत्वपूर्ण होती है| अतः इस लेख में दिए गए तरीके बच्चों के लिए ही ज्यादा उपयोगी होंगे| अगर आप 18-20 से ज्यादा उम्र के हैं, तो बहुत मुश्किल है की आपकी लम्बाई और बढे|

चलिए, शुरू करते हैं|

(इस लेख में हम जानेंगे - Natural ways to increase height, in Hindi)

Table of Contents (in Hindi)
  • कद न बढ़ने के कुछ संभावित कारण
  • हाइट बढ़ाने के घरेलू उपाय
  • बच्चों का लम्बाई बढ़ाने के लिए योग आसन
  • कद बढ़ाने की आयुर्वेदिक औषधि
  • लम्बाई बढ़ाने के लिए एक्यूप्रेशर बिंदु

कद न बढ़ने के कुछ संभावित कारण (Lambai na badhne ke karan)

लम्बाई न बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे की :

  • पोषक भोजन ग्रहण न करना; उटपटांग बाहर का, तला हुआ, या फ़ास्ट-फ़ूड खाना अत्यधिक खाना| शरीर के विकास के लिए फॉस्फोरस, कैल्शियम, विटामिन्स आदि बहुत जरूरी हैं| शरीर तभी बढ़ेगा अगर हड्डी बढ़ेगी, और हड्डियां तभी बढ़ेगीं अगर उन्हें यह सब पोषक तत्त्व मिलेंगे|

  • हार्मोन (ग्रन्थिरस) में कुछ असामान्यता|

  • वंशानुगत, जैसे की परिवार में बड़ों की लम्बाई कम होना, ख़ासतौर से माता-पिता की|

  • लड़को में 21 साल और लड़कियों में 18 साल के बाद हड्डियां बढ़ना बंद हो जाती हैं| अतः, इस उम्र के बाद प्राकर्तिक रूप से कद बढ़ाना लगभग असंभव है| अगर कोई ऐसा करने का दावा करता है, तो वो संभवतः कोई ठग ही होगा|

हम कई तरीकों से इनके प्रभावों को कम करने की कोशिश कर सकते हैं, पर पूरी तरह अप्रभावी नहीं कर सकते| अच्छे खान-पान, व्यायाम और अन्य घरेलु नुस्खे अपनाने पर आप अपने माता-पिता से 4-5 इंच लम्बे होने की उम्मीद कर सकते हैं|

हाइट बढ़ाने के घरेलू उपाय (Height badhane ke gharelu upay)

पोषक भोजन

यह सबसे आम, पर सबसे महत्त्वपूर्ण पहलु है| अगर बच्चा पोषित नहीं है, तो आप कुछ भी कर लें उसकी लम्बाई नहीं बढ़ेगी|

हज़ार साल की गुलामी का असर हम हिन्दुस्तानियों पर काफी पड़ा - कितनी ही पीढ़ियां कुपोषित रहीं और हमारी लम्बाई पर इसका साफ़ असर पड़ा| इसीलिए आप यह देख सकते हैं की आज़ादी के बाद, और जैसे-जैसे लोग संपन्न होते गए उनकी आगे आने वाली पीढीयों की लम्बाई बढ़ती गयी| आज से 20-30 साल पहले 6 फुट पुरुषों के लिए बहुत अच्छी लम्बाई मानी जाती थी, पर अब यह अपेक्षाकृत आम हो गयी है|

अतः, यह सुनिश्चित करें की आप या आपका बच्चा पौष्टिक भोजन कर रहा है - हरी सब्ज़ियाँ (शलज़म, गोभी, पालक, ब्रोक्कोली), फल, दूध इत्यादि|

ऐसे प्रदार्थ भी खाएं जिसमें प्रोटीन हो, जैसे दूध, घी, मक्खन, चीज़ (cheese), और दूध से बनी अन्य चीज़ें| लम्बाई के लिए दूध से भी अधिक दही उपयोगी होती है| माँसाहारी लोग मीट और अंडा खा सकते हैं|

कुछ मिनरल्स/खनिज भी इस लिहाज़ से महत्वपूर्ण हैं, जैसे की कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक इत्यादि|

हड्डियों के बढ़ने के लिए विटामिन D अति-आवश्यक है| यह विटामिन D ही है, जो कैल्शियम को हड्डियों में खपाता है| अगर विटामिन D की कमी हो, तो आप कितना भी कैल्शियम खा लें, उससे कोई फायदा नहीं होगा| अतः, ऐसे खाद्य प्रदार्थ लें जिसमें विटामिन D हो, जैसे की दालें, बादाम, दूध, संतरा, मशरूम इत्यादि| इसके अलावा, धूप सेकने से भी शरीर विटामिन D का निर्माण करता है|

विटामिन C भी लम्बाई के लिए महत्वपूर्ण है| इसके लिए आप निम्बू, आंवला आदि ले सकते हैं| आंवला में कैल्शियम भी अच्छी मात्रा में होता है|

क्यूंकि चने हड्डियों को मजबूत और लचीला बनाते हैं, अतः यह भी कद बढ़ाने में मददगार सिद्ध हो सकते हैं| रात को भिगाये हुए चने सुबह ग्रहण करना ज्यादा लाभकारी होगा|

कुछ लोगों के अनुसार प्याज़ और गुड़ खाने से लम्बाई बढ़ाने में मदद मिलती है|

पानी भी अच्छी मात्रा में ग्रहण करें| पानी की भरपूर मात्रा लेने से शरीर से सभी विषैले प्रदार्थ बाहर निकल जाते हैं, और शरीर के विकास में कोई रुकावट नहीं आती|

अच्छी नींद

सोते हुए ही शरीर अपनी कमी को पूरा करता है, अंग अपने में हुई क्षति को सही करते हैं, और हड्डियां तेजी से बढ़ती हैं| इसलिए शरीर विकास के लिए नियमित रूप से अच्छी नींद लेना अति-आवश्यक है|

इसके अलावा बेवज़ह चिंता करने से, दुखी रहने से और कोई भय पालने से बचें| शरीर-विकास पर हमारे चित्त की अवस्था का असर पड़ना निश्चित है|

वैसे यह सब चीज़ें तो हर प्रकार से जरूरी हैं, सिर्फ लम्बाई हासिल करने के लिए ही नहीं| अच्छी नींद लेने से और प्रसन्न रहने से रोग कम होते हैं, रोग-प्रतिरोधक छमता बढ़ती है, दिमाग तेज होता है, इत्यादि|

बच्चों का लम्बाई बढ़ाने के लिए योग आसन (Lambai ke liye Yogasan)

योग में कई ऐसे आसन हैं जो आपके कद को बढ़ा सकते हैं| आप पाएंगे की इनमे से ज्यादातर आपकी रीढ़ की हड्डी पर ज्यादा केंद्रित हैं|

इनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • पश्चिमोत्तानासन
  • सर्वांगासन
  • हलासन
  • चक्रासन
  • ताड़ासन
  • पादहस्तासन

में जब 14 साल का था तब मेरी लम्बाई करीब 5 फुट थी, और में विद्यालय में बच्चों की पंक्ति में दूसरे या तीसरे नंबर पर खड़ा होता था| मेरे पिता 5 फुट 9 इंच के हैं, और उन्हें बहुत चिंता होने लगी की शायद मेरी लम्बाई कम रह जाये| पर उन्हें योग की बहुत अच्छी जानकारी थी, और उन्होंने मुझे योगासन करने के लिए प्रेरित किया|

मेने करीब 2 साल पादहस्तासन, सर्वांगासन और हलासन लगातार हर सुबह 40-50 मिनट किये, रविवार का दिन छोड़कर (और भी कुछ आसन जैसे की शवासन, पद्मासन, वज्रासन, कभी-कभी शीर्षासन भी) | जब में 16 साल का हुआ तब तक में 6 फुट का हो चूका था, और अब विद्यालय की पंक्ति में पीछे से दूसरे या तीसरे नंबर पर खड़ा होता था| पर इसमें मेहनत और समय लगता है, इसमें शक नहीं|

नोट

इनमें पादहस्तासन और सर्वांगासन संभवतः लम्बाई बढ़ाने के लिए सबसे प्रभावी हैं|

पर योग में आसनों को करने का एक तरीका होता है| इसलिए यह किसी अच्छे प्रशिक्षक से पहले जान लें, और उसके बाद ही यह आसन करें| यह नहीं की इनको व्यायाम समझकर बेतरतीब खुद ही करना शुरू कर दिया| कौनसे आसन साथ में किये जा सकते हैं, कौनसे नहीं, आसनों के बीच शरीर को कैसे आराम देना है - यह सब जानना जरूरी है| में हमेशा दो आसनों के बीच 5-10 मिनट शवासन जरूर करता था|

अगर आप योग नहीं करना चाहते, तो कोई और व्यायाम कर लें| व्यायाम करने से खून का प्रवाह अच्छा होता है, और आप जो खा रहे हैं, वो हड्डियों तक पहुँचता है| जो बच्चे खेल-कूद ज्यादा करते हैं, वह लम्बे भी होते हैं और हष्ट-पुष्ट भी|

कद बढ़ाने की आयुर्वेदिक औषधि (Lambai ke liye Ayurvedic upay)

अगर आप आयुर्वेद की बात करें, तो निम्नलिखित चूर्ण लम्बाई बढ़ाने के लिए उपयोगी माने जाते हैं :

  • अश्वगंधा पाउडर गाय के दूध में मिलाकर, रात को सोने से पहले ग्रहण करें| अश्वगंधा में प्राकर्तिक स्टेरॉयड, मैग्नीशियम और विटामिन B6 होता है|

  • शतावरी चूर्ण को भी कद बढ़ाने में मददगार माना जाता है|

कुछ डॉक्टर लम्बाई बढ़ाने में शरीर की मदद करने के लिए कैल्शियम और विटामिन C की गोलियां भी देते हैं (दिन में 1 या 2 गोली)| परन्तु किसी जानकार से परामर्श करने के बाद ही इन्हें ग्रहण करें|

लम्बाई बढ़ाने के लिए एक्यूप्रेशर बिंदु (Lamabi badhane ke liye Acupressure points)

आप हाथ की हथेली पर कुछ एक्यूप्रेशर बिंदु दबाकर कुछ ऐसी ग्रन्थियों को उत्तेजित कर सकते हैं, जो लम्बाई बढ़ाने में मददगार होती हैं, जैसे की :
acupressure points to boost height

  • अंघूठे के शीर्ष को दबाकर आप पिट्यूटरी ग्रंथि (Pituitary Gland) को प्रभावित कर सकते हैं|

  • अंघूठे और हथेली के जोड़ के पास दबाकर आप थाइरोइड और पैराथाइरॉइड ग्रंथियों (Thyroid and Parathyroid Glands) को प्रभावित कर सकते हैं|

Share on:
comments powered by Disqus