post-thumb

मालिश करने के फायदे (Malish karne ke fayde)

संभवतः आपको यह पहले से पता होगा की तेल मालिश (या मसाज) करने से बहुत से लाभ होते हैं| छोटे बच्चों की तेल मालिश की जाती है, बुजुर्ग भी आपको अपने पैरों-हाथों की मालिश करते अकसर दिख जाएंगे| तो यह जवानों के लिए भी फायदेमंद होती ही होगी|

इस लेख में हम मालिश के सम्बंधित कुछ बातें जानेंगे, और यह भी की अगर आपके पास कोई मालिश करने वाला नहीं है तो आपको क्या करना है|

(इस लेख में हम जानेंगे - Benefits of massage, in Hindi)

Table of Contents (in Hindi)
  • तेल मालिश के फायदे
  • तलुओं की मालिश के फायदे
  • मालिश के लिए उपयुक्त विभिन्न तेल
  • क्या करें अगर मालिश के लिए कोई न हो ?

तेल मालिश के फायदे (Tel malish ke fayde)

मालिश बहुत लाभकारी होती है, पर अगर मालिश करते हुए कोई उपयुक्त तेल (जैसे की सरसों का तेल, तिल का तेल इत्यादि) इस्तेमाल किया जाये तो यह और भी प्रभावी हो जाती है|

अलग-अलग तेलों की मालिश के भिन्न-भिन्न लाभ होते हैं - गाय के घी, बादाम रोगन, तिल का तेल, सरसों का तेल, सबके अलग-अलग प्रभाव और फायदे होते हैं| पर यहाँ हम कुछ आम फायदे गिनाएंगे जो किसी भी तेल मालिश से आपको देखने को मिलेंगे|

ये तो सबको पता है की तेल मालिश से (या सूखी मालिश से भी) थकान दूर होती है| पर मालिश के अन्य फायदे भी हैं|

  • मालिश करने से सिर्फ थकान ही दूर नहीं होती, अपितु उसके बाद नींद भी बहुत अच्छी आती है| आपने देखा होगा की कई लोग, खासतौर से छोटे बच्चे, मालिश करवाते-करवाते ही सो जाते हैं| नींद के लिए सिर की मालिश सबसे प्रभावी होती है - अगर किसी अच्छे तेल से की जाये तो और भी अच्छा, जैसे की गर्मियों में ठन्डे नवरत्न तेल से|
नोट

यह ध्यान रखें की सर्दियों में नारियल के तेल से सिर मालिश करने से कुछ दिक्कत हो सकती हैं, जैसे की यह सर्दी में जम जाता है और बालों को अकड़ाकर थोड़ा खिचाव पैदा कर सकता है|

  • मालिश करने से शरीर में खून का प्रवाह बेहतर होता है, तथा आपकी माँसपेशियों को ताकत मिलती है| अगर आपकी माँसपेशियों में कहीं थकावट, खिचाव या अकड़न है, तो तेल की मालिश से आपको काफी आराम मिलेगा| मालिश करने से शरीर मज़बूत बनता है| इसीलिए पहलवान लोग नियमित रूप से शरीर की मालिश करवाते हैं|
  • तेल की मालिश से आपकी नसें भी पोषित होती हैं|
  • तेल-मालिश से त्वचा जवान बनी रहती है, और बुढ़ापा जल्दी नहीं आता| नियमित तेल मालिश करने वाले लोगों की त्वचा में आपको एक चमक देखने को मिलेगी|
  • तेल-मालिश से वात-दोष का भी निवारण होता है, और इससे होने वाले रोगों का भी, जैसे की जोड़ों का दर्द, अत्यधिक गैस बनना, इत्यादि|
  • तेल मालिश से त्वचा के छिद्र खुल जाते हैं, और इससे शरीर के अंदर मौजूद दूषित और विषैले तत्त्व बाहर निकल जाते हैं|
  • सिर में तेल लगाने से मानसिक परेशानियाँ भी कम होती हैं, जैसे की चिंता, अवसाद, इत्यादि|
नोट

आजकल के नवयुवक तेल लगाने से बचते हैं (जिनमें से में भी एक था), क्यूंकि यह चिपचिपा होता है, महकता है आदि| पर फायदा इसी से होता है, जैल (gel), और रसायन (केमिकल) लगाने से नहीं|

अगर आप कॉलेज या दफ़्तर जाते हैं, और आपको लगता है की आपके सहपाठी आपका मज़ाक उड़ाएंगे, तो रात को सोते हुए तेल लगा लें, और सुबह अच्छे से धो लें|

तलुओं की मालिश के फायदे (Taluon ki maalish ke fayade)

सोने से पहले तलुओं की मालिश करने के आयुर्वेद में अनेक लाभ गिनाये गए हैं| आयुर्वेद के अनुसार तो अगर आप सोने से पहले नियमित रूप से तेल मालिश करते हैं, तो आपको आराम से कोई रोग ही नहीं आएंगे|

ऐसा इसलिए भी है क्यूंकि तलुओं की मालिश करने से खून का प्रवाह अच्छा हो जाता है, और नींद भी अच्छी आती है| अगर आपके शरीर में खून का प्रवाह अच्छा है, तो इसका मतलब है की शरीर के हर अंग को जरूरी पोषक तत्त्व और ऑक्सीजन मिल रही है| अच्छी नींद आने का मतलब है की आपके शरीर के प्रत्येक अंग को और दिमाग को उपयुक्त आराम मिल रहा है, और उन्हें दिनभर हुई छति को भरने के लिए पर्याप्त समय मिल रहा है| अगर ऐसा है, तो आधे रोग तो आपको वैसे ही नहीं होंगे|

इसके अलावा, तलुओं की मालिश से आपके तलुओं में स्तिथ एक्यूप्रेशर बिंदु भी दबते हैं, और वो भी लाभकारी होता है|

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार, तलुओं की मालिश से शरीर में दर्द भी कम होता है, और शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है|

नोट

आयर्वेद के अनुसार, नहाने से पहले तेल मालिश करना बहुत लाभकारी होता है| नहाने के बाद सिर्फ सिर या कानों में तेल लगाने का विधान है, और कहीं नहीं|

व्यायाम भी नहाने से पहले ही किया जाता है, क्यूंकि नहाने से पसीना आता है| पर व्यायाम करते ही नहाना नहीं चाहिए| शरीर थोड़ा ठंडा हो जाये तभी नहाएं, कम-से-कम आधे या एक घंटे बाद|

मालिश के लिए उपयुक्त विभिन्न तेल (Malish ke liye tel)

तेल शब्द की उत्पत्ति ही तिल शब्द से हुई है| इसे मालिश के लिए उत्तम तेल माना जाता है| तिल का तेल हल्का सा गर्म करके मालिश करने से कई फायदे होते हैं| वैसे तो तिल का तेल तासीर में गर्म ही होता है, पर अगर आप इसे हल्का गर्म कर लेंगे तो यह और भी अच्छा प्रभाव देगा|

मगर आपको अगर तिल का तेल न मिले, तो आप सरसों का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं| दक्षिण भारत के लोग नारियल का तेल भी प्रयोग में ला सकते हैं, क्यूंकि वहां नारियल का तेल ज्यादा मिलता है| पर नारियल का तेल तभी इस्तेमाल करें जब मौसम थोड़ा गर्म हो, ठण्ड में नहीं|

सिर मालिश के लिए आप बादाम-रोगन तेल भी प्रयोग में ला सकते हैं| इससे याद्दाश्त और मानसिक शक्ति प्रबल होती है|

क्या करें अगर मालिश के लिए कोई न हो ?

अगर आपके घर में आपकी मालिश करने वाला कोई नहीं है, या आप संकोचवश किसी से कह नहीं सकते, तो भी आपके पास कई विकल्प मौजूद रहते हैं|

  • शरीर के कई हिस्सों में तो हम खुद ही आराम से मालिश कर सकते हैं, जैसे की सिर, हाथ, पैर इत्यादि|
  • आप किसी मसाज केंद्र में जाकर मालिश प्राप्त कर सकते हैं| सिर की मालिश तो नाई भी कर देते हैं|
  • एक और अच्छा विकल्प मालिश करने वाली मशीन होती हैं| आजकल हर तरह की मसाज मशीन उपलब्ध है - पैर की मालिश के लिए, सिर मालिश के लिए, कंधों के लिए, इत्यादि| इनमें से ज्यादातर ऑनलाइन खरीदी जा सकती हैं, जैसे की Amazon पर, Flipkart पर, इत्यादि|
नोट

ऑनलाइन ऐसी मालिश की मशीन खरीदने में दिक्कत यह है की यह पता नहीं होता की वो असल में कैसे मालिश करेगी - कुछ मशीन बहुत कसके मालिश करती हैं, कुछ थोड़े दिन में ही खराब हो जाती हैं|

मेने ऑनलाइन कई ऐसी मशीन खरीदी हैं, कुछ अपने लिए, कुछ अपने माता-पिता के लिए| मुझे और मेरी माता को जो सबसे अच्छी लगी वो यह है - RoboTouch TrichoDerma 3D Scalp Head Massager Machine for Stress Relief and Deep Muscle Relaxation (Amazon Site Link)

यह बहुत महंगी भी नहीं है, और इससे सिर के अलावा हाथ, कंधे, पैरों की भी मालिश की जा सकती है| साथ ही, मालिश हलके करनी है या ज़ोर से यह भी अपने हाथ में होता है| यह बालों को उलझाती भी नहीं हैं, चाहे वो लम्बे ही क्यों न हों|

परन्तु सुरक्षा कारणों से बिजली के उपकरणों के साथ पानी, तेल इत्यादि इस्तेमाल न करें तो बेहतर होगा| सूखी मालिश ही करें|

Share on:
comments powered by Disqus